AIIMS निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने दी चेतावनी: भारत में जून, जुलाई में होगा कोरोना का तांडव

नई दिल्ली: ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया (Dr Randeep Guleria) ने कहा कि भारत में जून या जुलाई में कोरोनावायस (Coronavirus) के मामले अपने चरम पर पहुंच सकते हैं।

गुलेरिया ने कहा, “भारत में कोविड-19 के मामले चरम पर कब होंगे, इसका जवाब मॉडलिंग डेटा पर निर्भर करेगा। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों विशेषज्ञ डेटा का विश्लेषण कर रहे हैं। उनमें से अधिकांश ने अनुमान लगाया है कि भारत में जून या जुलाई में मामलों की संख्या अपने चरम पर पहुंच सकती है।


डॉ गुलेरिया (Dr Randeep Guleria) ने कहा, “पहले यह विश्लेषण किया गया था कि कोरोना वायस (Coronavirus)  मामलों की संख्या मई में अपने चरम पर होगी, लेकिन लॉकडाउन (Lockdown) बढ़ाए जाने के कारण पीक अवधि भी आगे बढ़ गई। यह एक डायनॉमिक प्रक्रिया है, जो विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है। यह एक लंबी लड़ाई है।”

उन्होंने कहा, “पीक अवधि गुजर जाने के बाद भी मामले आएंगे। यात्रा और सामाजिकता के संदर्भ में लोगों की जीवनशैली बदल जाएगी।”

एम्स (AIIMS) के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया (Dr Randeep Guleria) ने यह भी कहा कि सिर्फ समय के साथ देश में लॉकडाउन (Lockdown) के प्रभाव की मात्रा जानी जाएगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, शुक्रवार को देश में कोरोनावायरस के कुल मामलों की संख्या 56,342 है।

इनमें सक्रिय मामलों की संख्या 37,916 है। कोरोनावायरस (Coronavirus) से 16,540 लोगों को ठीक कर अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है, जबकि वायरस से मरने वालों की संख्या 1,886 है।

यह भी पड़े:http://रक्षा मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया कैलाश मानसरोवर लिंक रोड का उद्घाटन

Leave a Reply

Your email address will not be published.