कोरोना का डेल्टा प्लस वैरिएंट है बड़ा खतरनाक, देश मे कई राज्यो में मिले मरीज

corona update
 

दिल्ली: देश में सबसे पहले कोरोना वायरस फिर उसके डेल्टा वैरिएंट और अब डेल्टा प्लस वैरिएंट पैर पसारना शुरू कर दिया है। फिलहाल महाराष्ट्र और केरल में कोविड-19 के डेल्टा प्लस वैरिएंट के कई मामले सामने आ गए हैं। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने सोमवार को कहा कि राज्य में डेल्टा वैरिएंट के 21 मामले सामने आए हैं।
वहीं, दूसरी ओर से केरल में भी डेल्टा प्लस कम से कम तीन मामला सामने आए हैं। अधिकारियों ने कहा कि केरल के पलक्कड़ और पठानमथिट्टा जिलों से एकत्र किए गए नमूनों में SARS-CoV-2 डेल्टा-प्लस वैरिएंट के कम से कम तीन मामले पाए गए हैं। बता दें कि कोरोना वायरस का डेल्टा प्लस वैरिएंट को काफी खतरनाक माना जा रहा है।

मध्य प्रदेश में मिला डेल्टा प्लस
खबर है कि मध्य प्रदेश के शिवपुरी में भी डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं। चार लोगों में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई थी और और चारों लोगों की मौत हो गई है। इन लोगों के सैंपल को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा गया था। जिसके बाद डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जिन चार लोगों में इस वायरस की पुष्टि हुई है उनकी मौत भी हो गई है। हैरानी की बात तो यह है कि इन चारों लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन भी लग चुकी थी।

अब तक मिल चुके हैं चार वैरिएंट
बता दें कि डेल्टा प्लस को कोरोना वायरस का सबसे खतरनाक वैरिएंट माना जा रहा है। कोरोना वायरस के अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा, अभी तक ये चार वैरिएंट सामने आए हैं। खुद विश्व स्वास्थ्य संगठन इन चार वैरिएंट के बारे में जानकारी दे चुका है। इसमें सबसे खतरनाक डेल्टा वैरिएंट जो भारत में भी पाया गया है। कोरोना वायरस की दूसरी लगर में डेल्टा वैरिएंट ने ही कहर बरपाया है।

नए डेल्टा वैरिएंट के चलते वैक्सीन भी बेअसर हो सकती हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से यह आशंका जताई गई है। इसके चलते दुनिया भर में एक बार फिर से कोरोना संकट की नई लहर का संकट पैदा हो गया है। डब्ल्यूएचओ के महामारी विशेषज्ञ ने सोमवार को कहा कि डेल्टा वैरिएंट के चलते वैक्सीन का असर भी कम होता दिख रहा है। हालांकि अब भी वैक्सीन के चलते कोरोना का असर ज्यादा गंभीर नहीं हो रहा और मौत जैसी स्थिति से बचाने में कारगर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अधिकारी ने कहा कि आने वाले दिनों में कोरोना के ऐसे नए म्यूटेंट भी एक्टिव हो सकते हैं, जिनके चलते वैक्सीन्स का असर कम हो सकता है।

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

यह भी पढ़े: कोरोना के दौरान अनाथ हुए बच्चों को जुलाई के पहले हफ्ते से मिलने लगेगा लाभ वात्सल्य योजना का लाभ