EPFO: वित्त वर्ष 2020-21 के लिए PF पर मिलने वाला ब्याज जल्द ही आ सकता है खाताधारकों के अकाउंट में

EPFO
 

दिल्ली: वित्त वर्ष 2020-21 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO), PF पर मिलने वाला ब्याज जल्द ही खाताधारकों के अकाउंट में क्रेडिट किया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार, जुलाई महीने के अंत तक ब्याज को PF अकाउंट में क्रेडिट कर दिया जायेगा। कुल 8.50 फीसदी का ब्याज मिलेगा। लेकिन, पिछले 7 साल में यह ब्याज दर सबसे कम है। वित्त वर्ष 2016-17 में PF पर 8.65% ब्याज मिलता था। हालांकि, पहले PF पर मिलने वाला ब्याज 12% हुआ करता था। लगातार कटौती होती गई और आज ब्याज 8.50 फीसदी मिलता है। ऐसा भी नहीं है कि ये सबसे कम ब्याज दर है।

1952 में की गई थी शुरुआत

भारत सरकार ने 1952 में EPFO की शुरुआत की थी। यह वह दौर था, जब भारत आजादी के बाद पहली बार मजदूरों को सोशल सिक्योरिटी देने का प्रयास कर रहा था। उस वक्त EPFO के अंतर्गत 1952 एक्ट लागू किया गया। यहीं से PF पर मिलने वाले ब्याज की शुरुआत हुई. हालांकि, शुरुआत में ब्याज काफी कम था, महज 3 फीसदी से इसकी शुरुआत की गई। वित्त वर्ष 1955-56 में PF पर ब्याज दर को 3.50% तय की गई। 1963-64 में यह बढ़ते हुए 4% पर पहुंची।

फिर हल साल बढ़ता गया ब्याज

वित्त वर्ष 1963-64 के बाद से हर साल PF के ब्याज में 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी की गई। 1969-70 तक यह बढ़कर 5.50% पहुंच गई। हालांकि, उसके बाद से इसके लगातार 0.25% पर ब्रेक लगा और EPFO ने वित्त वर्ष 1970-71 में इसे महज 0.10 फीसदी ही बढ़ाया।

https://www.newstrendz.co.in/up/up-education-department-has-passed-9th-and-11th-class-children-like-this/

पहली बार 8% हुई ब्याज दर

1977-78 में पहली बार ब्याज दर 8% पहुंची थी। उसके बाद से यह इससे ऊपर ही है। लेकिन, 1978-79 में सबसे बड़ा फायदा पीएफधारकों को मिला, जब सरकार ने इसे 8.25% करने के साथ ही 0.5% का बोनस भी दिया। हालांकि, यह बोनस उन लोगों के लिए लिया था, जिन्होंने कभी अपना पीएफ नहीं निकाला हो। बोनस के रूप में मिलने वाली रकम को सिर्फ 1976-1977 और 1977-1978 के पीएफ पर ही दिया गया।

ईपीएफओ ने 1989-90 में पीएफ पर सबसे अधिकतम ब्याज 12% देने का फैसला किया, लेकिन इसके बाद 2000 तक इसे नहीं बदला गया। वित्त वर्ष 2000-01 तक पीएफ पर 12% ही ब्याज मिलता रहा। लेकिन, इसके बाद लगातार नौकरीपेशा की जेब पर कैंची चलती गई. जुलाई 2001 से इसे घटाकर 11% किया गया।

कितना कटता है PF

EPFO के तहत आने वाली कंपनियों में नौकरी करने वाले कर्मचारी की सैलरी से 12% हिस्सा कटता है। इतना ही हिस्सा कंपनी के खाते से भी जमा होता है। गौर करने वाली बात यह है कि आपकी सैलरी से कटा पूरा 12% आपके खाते में जाएगा। लेकिन, कंपनी के खाते से कटे 12% हिस्से में से 3.67% हिस्सा PF में और 8.33% EPS (एम्प्लॉयी पेंशन स्कीम) में जमा होता है।

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

यह भी पढ़े: 30 जून तक COVID-19 एमरजेंसी गाड़ियों को फ्री में फ्यूल देगी Reliance-BP, नए इनिशिएटिव की हुई शुरुआत