जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने ली पद की शपथ

मनोज सिन्हा

जम्मू-कश्मीर के पूर्व उपराज्यपाल जी सी मुर्मू के इस्तीफे के बाद मनोज सिन्हा को जम्मू-कश्मीर का नया उप राज्यपाल नियुक्त किया गया है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू (जी सी मुर्मू) को नया CAG घोषित किया गया है।

देहरादून: भाजापा नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा ने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के नये उप राज्यपाल की शपथ ले ली है। गिरीश चंद्र मुर्मू (जी सी मुर्मू) के इस्तीफे के बाद मनोज सिन्हा को जम्मू-कश्मीर का नया उप राज्यपाल नियुक्त किया गया है। इससे पहले जम्मू-कश्मीर के पूर्व उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू (जी सी मुर्मू) को नया CAG घोषित किया गया है।

 

जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, नरेंद्र मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में केंद्रीय संचार राज्यमंत्री और और रेल राज्यमंत्री रह चुके हैं। सिन्हा बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं। सिन्हा का गाजीपुर के अलावा बलिया, मऊ और आजमगढ़ जिलों में दबदबा माना जाता है। मनोज सिन्हा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के काफी करीबी माने जाते हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और सिन्हा के बीच आरएसएस के दिनों से ही अच्छे संबंध रहे हैं।

https://www.newstrendz.co.in/up-uk/uttarakhand-high-alert-heavy-rain-in-next-72-hours/

मनोज सिन्हा वर्ष 1996 में पहली बार गाजीपुर सीट से चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे थे। साल 1999 में उन्हें दूसरी बार जीत हासिल हुई थी। इसके बाद 2014 में सिन्हा तीसरी बार लोकसभा के लिए चुने गए और मोदी सरकार में रेल राज्य मंत्री बने।

मनोज सिन्हा के लिए कहा जाता है कि इन्हें घूमने का बहुत शौक है। किसान परिवार में जन्म लेने की वजह से इनका दिल हमेशा किसान और गांव के लिए धड़कता रहा है। उनका लगाव पिछड़े गांवों की तरफ हमेशा से ही रहा है। सिन्हा की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि उन्हें राजनीति में एक ईमानदार नेता के रूप में जाना जाता है। देश की एक लीडिंग मैगजीन ने उन्हें सबसे ईमानदार सांसद के ख़िताब से भी नवाजा था। मैगजीन के मुताबिक, मनोज सिन्हा उन ईमानदार नेताओं में शुमार हैं, जिन्‍होंने अपने सांसद निधि का शत-प्रतिशत इस्तेमाल लोगों के विकास में लगाया।

 

यह भी पढ़े: उत्तर प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र सीएम योगी के बरेली, नोएडा और सहारनपुर के दौरे