World Bicycle Day 2021: साइकिल बढ़ा रही लोगों की इम्यूनिटी पावर… कोरोना काल में साइकिल बनी फेवरेट

World Bicycle Day 2021
 

World Bicycle Day 2021: आज यानी 3 जून को दुनिया में वर्ल्ड साइसिकल-डे मनाया जा रहा है। इसका मकसद लोगों को साइकिलिंग के फायदों के बारे में समझाना है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO)की मानें तो बढ़िया सेहत पाने के लिए वॉकिंग और साइक्लिंग एक सबसे बढ़िया माध्यम है। तो आइये इस दिन की महत्ता सहित जानते हैं सभी जरूरी जानकारी।

साइकिल दिवस की शुरुआत

संयुक्त राष्ट्र ने 3 जून 2018 को विश्व साइकिल दिवस (World Bicycle Day 2021) की पहल की थी। यह दिवस साफ और सेहतमंद पर्यावरण के लिए दुनियाभर में ईको फ्रेंडली साधनों को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाने लगा। इससे देशों को कार्बन फुटप्रिंट को कम करने में सहायता मिलेगी।

कोरोना काल में साइकिल की डिमांड कई गुना बढ़ गई। शोध कहते हैं कि साइकिल इम्यूनिटी पावर भी बढ़ाती है। इसलिए अब तेजी से साइकिल का दौर लौटने लगा है। कई पश्चिमी देशों में तो कॉर्पोरेट कंपनी और सरकार के मंत्री तक साइकिल चलाते नजर आए हैं। कोरोना काल में तो साइकिल और भी ज्यादा उपयोगी साबित हुई है। इससे ईंधन और धन तो बचता ही है, यह शरीर की ऊर्जा और क्षमता को भी बढ़ाती है। इसके साथ ही ईको फ्रैंडली भी है।

रोजाना साइकिल चलाने से रक्त संचार तेजी से होता है. इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. साथ ही दिमाग में हेल्प हार्मोंस बनने लगते हैं। इससे तनाव दूर होता है। साइकिलिंग करते समय सामान्‍य व्यक्ति की तुलना में साइकिल-सवार गहरी सांस लेता है। इससे शरीर ज्‍यादा मात्रा में ऑक्‍सीजन ग्रहण करता है। फेफड़ों में तेजी से हवा अंदर बाहर होती है। फेफड़ों की क्षमता बढ़ती है और मजबूती आती है। साइकिल चलाने से पैरों की भी अच्छी कसरत होती है। इससे मांसपेशियां मजबूत होती हैं। साइकिलिंग किसी भी मामले में पुश अप्स से कम एक्सरसाइज नहीं है।

कई शोधों में यह प्रमाणित हो चुका है कि नियमित रूप से साइकिलिंग करने से कैलोरी बर्न होती है और फैट कम होता है। इससे वजन नहीं बढ़ता। साइकिल चलाने से रक्त संचार तेजी से होने के कारण हृदय भी ठीक रहता है। रक्त कोशिकाएं और त्वचा में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा पहुंचती है और मस्तिष्क में नई कोशिकाएं बनती हैं।

 

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

 

यह भी पढ़े: http://IMA: 12 जून को 341 कैडेट भारतीय सैन्य अकादमी से कड़े प्रशिक्षण के बाद बन जाएंगे भारतीय सेना का हिस्सा