Airtel ने शुरू की स्पेशल सर्विस: पहले से बेहतर 4G स्पीड और मिलेगा साथ में बहुत कुछ सिर्फ इन कस्टमर्स को

एयरटेल ने अपने सिस्टम में बदलाव करते हुए एडवांस टेक्नोलॉजी लगाई है। यह टेक्नोलॉजी प्लैटिनम कस्टमर्स की पहचान कर उन्हें नेटवर्क पर प्राथमिकता देने के साथ साथ उन्हें पहले से बेहतर और तेज 4जी स्पीड देगी।

दिल्ली: प्राइवेट टेलीकॉम कंपनी एयरटेल (Airtel) ने 499 रुपये महीने से ज्यादा खर्च करने वाले अपने पोस्टपेड कस्टमर्स (Postpaid Customers) को 4जी नेटवर्क (4G Network) पर प्राथमिकता (Priority) देने की घोषणा की है। एक खबर के मुताबिक, एयरटेल ने कहा कि अपने ‘एयरटेल थैंक्स’ (Airtel Thanks) प्रोग्राम के अंतर्गत वह ऐसे कस्टमर्स को ‘प्लैटिनम’ कैटेगरी में रखकर स्पेशल सुविधाएं देगी।

एयरटेल (Airtel) ने एक बयान में कहा कि प्लैटिनम कस्टमर्स को भारती एयरटेल के नेटवर्क पर प्राथमिकता (Priority) दी जाएगी। इससे उन्हें बेहतर स्पीड वाली डेटा सर्विस और कॉलिंग एक्सपीरियंस मिलेगा।

https://www.newstrendz.co.in/up-uk/uttarakhand-doctors-vacancies-763-post/

कंपनी ने कहा, एयरटेल ने अपने सिस्टम में एडवांस टेक्नोलॉजी लगाई है। यह प्लैटिनम कस्टमर्स की पहचान कर उन्हें नेटवर्क पर प्राथमिकता (Priority) देने में पूरी तरह से सक्षम है। इससे उन्हें बेहतर और तेज 4जी स्पीड मिलेगी। यह सुविधा 499 रुपये या उससे ज्यादा का पोस्टपेड प्लान रखने वाले कस्टमर्स को मिलेगी।

एयरटेल ने यह भी बताया कि ऐसे कस्टमर्स को कंपनी कस्टमर केयर पर भी प्रायोरिटी देगी। इसमें कस्टमर को कंपनी के कस्टमर केयर सर्विस में अधिकारी से बात करने के लिए इंतजार नहीं करना होगा। कंपनी अब ऐसे ग्राहकों को 4जी सिम की घर पर सप्लाई भी करेगी।

भारती एयरटेल के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर शाश्वत शर्मा ने कहा कि यह एयरटेल थैंक्स (Airtel Thanks) प्रोग्राम (प्रायोरिटी 4-जी नेटवर्क) के तहत प्लैटिनम कस्टमर्स को अलग एक्सपीरियंस देने की कोशिश है। इसलिए हम उन्हें वह एक्स्ट्रा सर्विस का एक्सपीरियंस कराएंगे।

‘प्रायोरिटी 4-जी नेटवर्क’ का एक्सपीरियंस लेने के लिए मौजूदा एयरटेल और अन्य कंपनी के कस्टमर 499 से शुरू होने वाले एयरटेल पोस्टपेड प्लान में अपग्रेड कर सकते हैं। कंपनी के मुताबिक, कस्टमर एयरटेल थैंक्स एप पर एक कस्टमाइज्ड प्लेटिनम यूआई सहित स्पेशल फायदे ले सकते हैं।

 

यह भी पढ़े: http://अभी बाकि है कोरोना वायरस का पीक: आने वाले वक़्त में भयावह होंगे आकड़े WHO