Uttarakhand में बिगड़ा मौसम, पिथौरागढ़ और अल्मोड़ा में बारिश

uttarakhand

देहरादून: पिथौरागढ़ के उच्च हिमालयी क्षेत्र में बुधवार को हिमपात व घाटी वाले क्षेत्रों में बारिश हुई है। बारिश से कई क्षेत्रों में जंगलों में लगी आग बुझ गई। वहीं अल्मोड़ा जिला मुख्यालय समेत आसपास के क्षेत्रों में मौसम ने करवट ली। वहा बीती रात से रुक-रुक कर बारिश हुई। चम्पावत में बुधवार तड़के अंधड़ से फलदार पेड़ों को नुकसान पहुंचा है। तेज हवा चलने से फलों की बौर गिर गई है।

बुधवार तड़के से पिथौरागढ़ के अधिकांश क्षेत्रों में बारिश होती रही। इससे पहले देर रात भी हल्की बूंदाबांदी हुई। वहीं उच्च हिमालयी क्षेत्रों में हिमपात हुआ है। मुनस्यारी के आसपास बारिश और उच्च हिमालयी इलाकों में बर्फबारी हुई है। जिससे मुनस्यारी में पिछले 24 घंटे में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री और अधिकतम 12 डिग्री रहा। खलिया, नागनीधुरा, रुड़खान, भैसखाल, हसलिंग, राजरम्भा सहित माइग्रेशन गांवों में बर्फबारी जारी है। खलिया में 3 इंच बर्फ गिरी है।

जिले के अधिकांश क्षेत्रों में बारिश से किसानों ने राहत महसूस की है। आलू की फसल के लिए बारिश को बेहतर बताया जा रहा है। जबकि चम्पावत में अंधड़ से फलदार पेड़ों को नुकसान पहुंचा है।  चम्पावत में बुधवार तड़के तीन बजे से अंधड़ चलना शुरू हुआ। इस दौरान हल्की बारिश भी हुई। तेज हवा के चलते माल्टा, संतरा, आड़ू, पुलम, नींबू आदि की बौर गिर गई। अंधड़ थमने के बाद आसमान में बादल छाए रहे। अपराह्न तक यहां धूप छांव का खेल चलता रहा। बुधवार को चम्पावत का न्यूनतम तापमान 10.50  डिग्री और अधिकतम 25.80 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया मुनस्यारी। मुनस्यारी के खलिया में पहली बार अप्रैल में अब तक 7 बार बर्फ गिर चुकी है। इस बार शीतकाल में बर्फबारी नहीं होने से लोग परेशान थे। अब ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बेमौसम हो रहा हिमपात लोगों को हैरान कर रहा है।

 

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

 

यह भी पढ़े: http://Corona Update: उत्तराखंड में 24 घंटे में मिले रिकॉर्ड 4807 संक्रमित मरीज, 34 की मौत, एक्टिव केस 24 हजार पार