मनीष सिसोदिया के दिल्ली स्कूल मॉडल पर बहस को तैयार उत्तराखंड अभिभावक एकता समिति

देहरादून: उत्तराखंड में बीते दिनों मनीष सिसोदिया ने सरकार के उच्च मंत्री मदन कौशिक को प्रदेश की शिक्षा निति और दिल्ली मॉडल पर खुली बहस के लिए आमंत्रित किया था किन्तु इस बहस स्वीकार करने की जगह चुप्पी साध ली। अब मनीष सिसोदिया की इस चुनौती को बीजेपी सरकार की जगह उत्तराखंड के एक अभिभावक संघ ने स्वीकार उन्हें ही आमंत्रित कर दिया।

जी हाँ आप सही सुन रहे है आम आदमी के शिक्षा मंत्री को सरकार के मंत्री नहीं बल्कि एक अभिभावक ने चौनौती दी है और उत्तराखंड में स्कूल पर वो क्या बदलव करेंगे यह सवाल कर दिया है। अभिभावक संघ ने मनीष सिसोदिया का चैलेंज स्वीकार करते हुए सोशल मीडिया पर चैलेंज के लिए पोस्ट भी कर दिया।

जहां एक तरफ दिल्ली स्कूल मॉडल पर उत्तर प्रदेश तो कभी उत्तराखंड की सरकार को चैलेंज करने वाली आम आदमी पार्टी ने सरकार को घेरने के लिए एक और तरीका तलाश कर लिया। अब उन्होंने सेल्फी विथ स्कूल #selfiewithschool अभियान से सत्ता पक्ष के घर में घुस कर सेंध करने का काम शुरू कर दिया है। इस अभियान में जनता से मिल रहे समर्थन के बाद इस अभियान को आम आदमी पार्टी ने दो और दिनों के लिए बढ़ा दिया है।

इस चैलेंज पर जब हमने अभिभावक एकता समिति के संस्थापक सदस्य अमित गौतम ने बताया की उत्तराखंड में सरकारी स्कूल की स्तिथि काफी ख़राब है ऐसे में मनीष सिसोदिया जी दिल्ली स्कूल मॉडल पर बहस करने आये थे उनके इस बहस के चैलेंज को सरकार के मंत्री मदन कौशिक ने स्वीकार तो नहीं किया लेकिन हम यह चैलेंज स्वीकार करते है और हम आप से सवाल करते है की वो बताये की उत्तराखंड की शिक्षा निति को कैसे बेहतर करेंगे।

इस चैलेंज को स्वीकार किये जाने के बाद आम आदमी पार्टी की प्रवक्ता उमा सिसोदिया ने कहा की हमारी लड़ाई अभिभावक एकता समिति से नहीं है। हम सरकार के द्वारा उत्तराखंड के सरकारी स्कूल की अवहेलना के खिलाफ काम कर रहे है। अगर अभिभावक संघ से
अगर कोई बात रखना चाहता है तो हम उनसे बात करने को तैयार है। और उन्हें जो भी मदद चाहिए होगी आम आदमी पार्टी करने को तैयार है।

यह भी पढ़े:http://जेल में चल रहे नेटवर्क का भंडाफोड़, लिप्त अधिकारीयों पर भी होगी कार्यवाही: डीजीपी उत्तराखंड