नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के निधन से, राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर, हर किसी ने दुखी मन से दी श्रद्धांजलि

 

देहरादून: उत्तराखंड से एक बहुत ही दुखद खबर सामने आई है। इस खबर के बाद उत्तराखंड कांग्रेस में शोक की लहर है। उत्तराखंड कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश का दिल्ली में निधन हो गया। बताया जा रहा है कि ब्रेन हेमरेज के चलते इंदिरा हृदयेश का निधन हुआ है। वह काफी वक्त से दिल्ली के अस्पताल में भर्ती थी। उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने इस बात की पुष्टि की है। इसके अलावा पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी इस बात की पुष्टि की है। उत्तराखंड की राजनीति में इंदिरा हृदयेश का एक अलग ही रुतबा था। बताया गया है कि इंदिरा हृदयेश दिल्ली में कांग्रेस हाईकमान के साथ मीटिंग में शामिल होने गई थी इसके बाद उनकी हालत खराब होने के लगी थी। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनकी मृत्यु हो गई।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने वरिष्ठ राजनेता और उत्तराखण्ड में नेता प्रतिपक्ष डा. इंदिरा हृदयेश जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति व शोक संतप्त परिवार जनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदिरा हृदयेश जी ने पिछले चार दशक से यूपी से लेकर उत्तराखंड की राजनीति में बङी भूमिका निभाई। वे एक कुशल प्रशासक, वरिष्ठ राजनीतिज्ञ व संसदीय ज्ञान की जानकार थीं।

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश की दिल्ली में हार्ट अटैक से मृत्यु पर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित बीजेपी के कैबिनेट मिनिस्टर बंशीधर भगत, आप नेता रवींद्र जुगरान, उत्तराखण्ड राज्य आंदोलनकारी मंच ने गहरा शोक व्यक्त कर श्रद्धा सुमन अर्पित किया है। उत्तराखण्ड कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मथुरा दत्त जोशी, उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ने गहरा शोक व्यक्त किया है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा इसे उत्तराखंड राजनीति के लिए अपूरणीय क्षति बताया है। बीजेपी से लेकर कांग्रेस हर कोई नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के यू चले जाने से दुखी है।

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

यह भी पढ़े: http://उत्तराखंड में बच्चों को निमोनिया टीके का सुरक्षा कवच, CM TSR ने किया शुभारंभ