ऋषिकेश में खतरे के निशान से सिर्फ 10 सेंटीमीटर नीचे गंगा, पानी में डूबा त्रिवेणी घाट

 

ऋषिकेश: पर्वतीय क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश से मैदानी क्षेत्र में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। शनिवार की सुबह गंगा का जलस्तर खतरे के निशान से मात्र 10 सेंटीमीटर नीचे पहुंच गया है। प्रशासन की ओर से शुक्रवार की रात को ही समूचे क्षेत्र में अलर्ट जारी कर दिया गया था। गंगा की सहायक नदियों में उफान आने के कारण गंगा के जलस्तर में शुक्रवार की शाम से ही वृद्धि दर्ज की गई थी। मध्य रात्रि 12 बजे गंगा का जलस्तर चेतावनी रेखा को पार कर गया था।

रात भर गंगा के जलस्तर में उतार-चढ़ाव होता रहा। पर्वतीय क्षेत्र में बारिश लगातार जारी है, जिससे रुद्रप्रयाग और देवप्रयाग क्षेत्र में भी नदियां उफान पर हैं। केंद्रीय जल आयोग की ओर से प्रशासन को भेजी गई रिपोर्ट में बताया गया है कि गंगा का जलस्तर ऋषिकेश में सुबह सात बजे खतरे के निशान 340.50 मीटर से मात्र 10 सेंटीमीटर नीचे पहुंच गया है। जल स्तर में निरंतर वृद्धि जारी है। त्रिवेणी घाट का प्लेटफार्म पानी में डूब गया है।

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

यह भी पढ़े: http://कुंभ कोविड टेस्ट हुए घपले में, लाख लोगों को फोन करना बना चुनौती, कई नंबर गलत