Uttarakhand: ड्राइविंग लाइसेंस बनाने वालों के लिए अच्छी खबर, अगले हफ्ते से शुरु होगा काम

driving license
 

देहरादून: उत्तराखंड में ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। 8 जून से आरटीओ दफ्तर में कामकाज फिर से शुरू हो जाएगा। दफ्तर में लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस, फिटनेस, टैक्स और वाहन ट्रांसफर आदि के लंबित कामों को निपटाने की अनुमति मिल गई है। अगले हफ्ते यानी 8 जून से आरटीओ में सीमित संख्या के साथ काम शुरू हो जाएगा। इसके अलावा परिवहन विभाग लर्निंग लाइसेंस के टेस्ट फिर से शुरू करने की तैयारी भी कर रहा है। इससे उन लोगों को बड़ी राहत मिलेगी जो पिछले कई महीनों से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए इंतजार कर रहे हैं। पिछले साल भी कोरोना लॉकडाउन के चलते लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस का काम पांच महीने तक बंद रहा था। बाद में अनलॉक-2 के तहत 20 जुलाई से परमानेंट लाइसेंस बनाने का काम तो शुरू हुआ, लेकिन संक्रमण के खतरे के मद्देनजर लर्निंग लाइसेंस का काम बंद ही रहा। 14 अगस्त से सीमित संख्या में लर्निंग लाइसेंस के टेस्ट शुरू किए गए थे। किसी तरह काम रफ्तार पकड़ ही रहा था कि इस साल अप्रैल में दूसरी लहर कहर बरपाने लगी। जिसके बाद 22 अप्रैल से लाइसेंस बनाने का काम फिर ठप पड़ गया। 27 अप्रैल से दफ्तर में लोगों की एंट्री पर पाबंदी लगी है।

लाइसेंस के तकरीबन 10 हजार आवेदन समेत दूसरे कामों के करीब 25 हजार आवेदन लंबित हैं। लंबित काम निपटाने के लिए अगले हफ्ते से आरटीओ में फिर से काम शुरू करने की योजना है। आरटीओ प्रशासन दिनेश चंद्र पठोई ने बताया कि 5 जून को बैठक बुलाई गई है। जिसमें कार्यों की दैनिक संख्या निर्धारित करने पर निर्णय लिया जाएगा। 27 अप्रैल से आरटीओ में कामकाज बंद था, लेकिन पिछले हफ्ते से नए वाहनों के रजिस्ट्रेशन और अस्थायी परमिट के काम शुरू किए गए हैं। दफ्तर बंद होने की वजह से लाइसेंस का बैकलॉग काफी बढ़ गया है। लाइसेंस टेस्ट दोबारा शुरू करने की मांग बढ़ रही है। माना जा रहा है कि आरटीओ में 8 जून से लर्निंग और परमानेंट लाइसेंस के टेस्ट, फिटनेस, रजिस्ट्रेशन और परमिट का काम दोबारा शुरू किया जा सकता है।

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

 

यह भी पढ़े: http://सचिवालय संघ ने सीएम को बताई Golden Card की खामियां , CGHS व्यवस्था लागू करने की मांग