उत्तराखंड: जल्द हो बचाव कार्य शरू, टिहरी ने बनाई अपनी आपदा फाॅर्स

आपदा
 

देहरादून: मानसून के चलते आपदा की स्थि​ति में राहत और बचाव कार्यों के लिए SDRF की तर्ज पर डिस्ट्रिक्ट डिजास्टर रिस्पॉंस फोर्स यानी डीडीआरएफ का गठन किया गया है। ये टीमें सभी तहसीलों में तैनात कर दी गई हैं, जिसमें PRD और होमगार्ड के 5-5 जवान शामिल हैं। आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा इन PRD और होमगार्ड के जवानों को खोज, बचाव और फर्स्ट एड की ट्रेनिंग दी गई थी। ट्रेनिंग में सफल जवानों को लेकर जिला प्रशासन द्वारा डीडीआरएफ का गठन किया गया और ज़िले की सभी 10 तहसीलों में इन्हें तैनात कर दिया गया।

आपदा की घटनाओं में राहत बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीम को घटनास्थल तक पहुंचने में समय लग जाता है, जिससे राहत बचाव कार्य देरी से शुरू हो पाता है। इसके मद्देनज़र ज़िला स्तर पर ऐसी फोर्स का गठन किया गया है, जो सभी तहसीलों में तैनात होगी और क्विक रिस्पॉंस दे सकेगी, टिहरी ज़िले के घनसाली, नरेन्द्रनगर क्षेत्र सबसे अधिक संवेदनशील हैं. हालांकि घनसाली में एसडीआरएफ की टीम पहले से मौजूद है लेकिन बड़ा और सीमान्त क्षेत्र होने के चलते कई बार दूरस्थ इलाकों तक पहुंचने में SDRF की टीम को काफी समय लग जाता था। लेकिन डीडीआरएफ की टीम तहसीलों में तैनात होने से आपदा की स्थिति में तुरंत बचाव कार्य हो सकेगा। मानसून के चलते आपदा की दृष्टि से जिला आपदा प्रबंधन कंट्रोल रूम द्वारा ज़िले की मॉनीटरिंग की जा रही है और अधिकारियों व कर्मचारियों को भी सावधान रहना को कहा जा रहा है।

News Trendz आप सभी से अपील करता है कि कोरोना का टीका (Corona Vaccine) ज़रूर लगवाये, साथ ही कोविड नियमों का पालन अवश्य करे।

यह भी पढ़े: उत्तराखंड में वर्चुअल होगा योग दिवस: 21 जून को सीएम प्रदेश भर से एक हजार लोगों से जुड़ेंगे