विश्व बैंक एवं केंद्रीय जल आयोग ने की यूजेवीएन लिमिटेड के बांध पुनर्वास एवं पुनरोद्धार परियोजना की प्रशंसा

देहरादून: विश्व बैंक पोषित एवं केंद्रीय जल आयोग द्वारा क्रियान्वित Dam Rehabilitation and Improvement Project (DRIP) के अंतर्गत चयनित इछाड़ी एवं मनेरी बांधों तथा डाकपत्थर, आसन एवं पशुलोक बैराजों में कराए गए विभिन्न कार्यों के सफल क्रियान्वयन हेतु यूजेवीएन लिमिटेड के कार्यों की प्रशंसा करते हुए निगम को नई दिल्ली स्थित केंद्रीय जल आयोग कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में प्रतीक चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया। यूजेवीएन लिमिटेड के मुख्यालय उज्ज्वल में निगम के महाप्रबंधक एवं DRIP के नोडल अधिकारी पंकज कुलश्रेष्ठ द्वारा निगम के प्रबंध निदेशक संदीप सिंघल को उक्त प्रतीक चिन्ह भेंट किया गया। इस मौके पर प्रबंध निदेशक संदीप सिंघल ने यूजेवीएन लिमिटेड द्वारा DRIP के प्रथम चरण के अंतर्गत निर्धारित कार्यों को समय से पूर्ण करने पर हर्ष प्रकट करते हुए कहा कि विश्व बैंक के प्रतिनिधियों एवं केंद्रीय जल आयोग द्वारा सराहनीय कार्यों हेतु प्रशंसा निसंदेह निगम के लिए एक उपलब्धि है। मीडिया को जानकारी देते हुए संदीप सिंघल ने बताया कि विश्व बैंक द्वारा पोषित इस योजना में देशभर के पुराने एवं जीर्ण-शीर्ण हो चुके बांधों एवं बैराजों का जीवनकाल बढ़ाने के उद्देश्य से उनके पुनर्वास, पुनरोद्धार एवं मरम्मत के साथ ही उनमें सुधार के कार्य किए जा रहे हैं। संदीप सिंघल ने कहा कि विश्व बैंक पोषित DRIP के द्वितीय एवं तृतीय चरण के कार्यों हेतु भी यूजेवीएन लिमिटेड का चयन किया गया है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि DRIP के अगले दो चरणों में भी यूजेवीएन लिमिटेड द्वारा समय से  समस्त कार्यों को पूर्ण कर लिया जाएगा।