उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन को लेकर योगी सरकार की समीक्षा बैठक: नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध हुई कार्यवाही

लखनऊ: उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लॉक डाउन की समीक्षा करते हुए कहा कि इस वक़्त कोरोना संक्रमण को ले कर तैयार की गयी हॉटस्पॉट की योजना महत्वपूर्ण है जो की कारगर साबित हो रही है। जो हॉटस्पॉट (Hot spot) क्षेत्र है वही से कोरोना केस सामने आ रहे है। ऐसे में लॉकडाउन का सख्ती से पालन करवाना आवश्यक है।
यही नहीं उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर सरकार सख्त है। ऐसे में जिन क्षेत्रों को हॉटस्पॉट बनाया गया है वहा भी नियमों का कड़ाई से पालन करवाया जा रहा है।

प्रेस वार्ता करते हुए प्रमुख सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि 90% से 95% केस हाॅटस्पाॅट (Hot spot) के अंदर से ही आ रहे हैं। इनमें ऐसे लोगों के केस भी हैं, जो तबलीगी जमात से जुड़े लोगों के सम्पर्क में आए थे।

डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत दर्ज हुआ केस:

इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि तबलीगी जमात से जुड़े हुए लगभग सभी लोगों की टेस्टिंग व क्वारंटाइन की कार्यवाही कर ली गई है। काफी मामलों में ‘डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट’ व ‘एपिडेमिक्स एक्ट’ में एफआईआर भी दर्ज की गई है। यही नहीं तबलीगी जमात के 45 विदेशी सदस्यों पर एफआईआर दर्ज की गई है तथा 259 पासपोर्ट जब्त किए गए हैं। अभी तक तबलीगी जमात के 2,896 लोगों को चिन्हित कर उनका टेस्ट किया गया है। सभी 325 विदेशी व्यक्तियों का चिकित्सकीय परीक्षण करके क्वारंटाइन किया गया है।

लॉक डाउन का उल्लंघन करने वालों पर हुई कार्यवाही:           

प्रदेश में अब तक 24,43,149 वाहनों की सघन चेकिंग में 31,183 वाहन सीज किए गए। चेकिंग अभियान के दौरान ₹11,69,51,302 का शमन शुल्क वसूल किया गया है। इसके साथ ही आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 1,79,090 वाहनों के परमिट जारी किए गए हैं।

कोरोना वायरस के दृष्टिगत प्रदेश में लाॅकडाउन अवधि में पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा 188 के तहत 30,163 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई है।

57 जिलों से अब तक 1,778 कोरोना पाॅजिटिव: 

इस प्रेस वार्ता में मौजूद प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अमित मोहन प्रसाद ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि 57 जिलों से अब तक 1,778 कोरोना पाॅजिटिव के मामले सामने आए हैं, जिनमें से 48 जनपदों में 1,504 मामले एक्टिव हैं। अब तक 248 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि कल तक यह कमेटी गठित हो जाएगी। अस्पतालों में चलने वाली इमरजेंसी सेवाओं का निरीक्षण व मेडिकल इंफेक्शन को रोकने के लिए जो भी प्रोटोकाॅल हैं, उसका अनुपालन यह कमिटी सुनिश्चित कराएगी।

सोशल मीडिया पर फेक न्यूज़ शेयर करने वालों के विरुद्ध सरकार सख्त:

प्रदेश सरकार, फेक न्यूज पर कड़ाई से नजर रख रही है। फेक न्यूज के तहत अब तक 528 मामलों को संज्ञान में लेते हुए, साइबर सेल को सूचित किया गया है।

हॉटस्पॉट किये गए क्षेत्रों से सामने आ रहे कोरोना के पॉजिटिव सैंपलों को देखते हुए योगी सरकार अब और सख्त हो गयी है।

 

 

यह भी पढ़ें: http://उत्तराखंड के ग्रीन जोन में आने वाले 9 पर्वतीय जिलों को मिलेगी छूट: सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक खुलेंगी दुकानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.