योगी आदित्यनाथ की कोरोना को लेकर गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ समीक्षा बैठक

लखनऊ: प्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कोरोना के संबंध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ समीक्षा बैठक करते हुए उन्हें निर्देशित किया। उन्होंने बैठक में कहा कि अन्य प्रदेशों में रह रहे उत्तर प्रदेश के निवासियों की सूची बनाकर, चरणबद्ध तरीके से मेडिकल टेस्ट करवाकर, नियमित व्यवस्था के आधार पर उत्तर प्रदेश में लाने की व्यवस्था की जाये।
इसके साथ ही के उन्होंने जिलाधिकारी एवं एसएसपी को भी निर्देशित किया है कि वे जनपद स्तर पर बने ‘क्वारंटाइन केन्द्रों’ को प्रतिदिन स्वयं जाकर व्यावस्था देखे। इसके अलावा क्वारंटाइन केन्द्रों पर कोई कमी न रहे और किसी की कोई शिकायत न मिले इसलिए विभिन्न जनपदों में गए वरिष्ठ अधिकारियों को भी इन केन्द्रों को देखने के लिए कहा गया है।

ईंट-भट्ठों के काम पर रोक नहीं:
ईंट-भट्ठों पर काम चल रहा है। यदि कोई ईंट लेकर जा रहा है तो पुलिस प्रशासन उसे न रोके। ईंट, छड़, बालू आदि निर्माण सामग्री को लाने ले जाने पर भी कोई रोक नहीं होगी।

हेल्थकेयर स्टाफ को सुरक्षित रखना चुनौती:
पत्रकारों से बात करते हुए प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री इसके प्रति अत्यंत सजग हैं और उन्होंने चिंता भी व्यक्त की है क्योंकि कई जनपदों में हेल्थकेयर स्टाफ के संक्रमित होने का प्रकरण सामने आया है। उन्होंने बताया कि हमारे सामने एक बड़ा सोर्स इंफेक्शन का निकल कर आ रहा है, जो मेडिकल संस्थानों से इंफेक्शन फैल रहा है। फिर लोग भी संक्रमित हो रहे हैं, इसके लिए लोग ‘इंवेंशन प्रिवेंशन प्रोटोकाॅल’ का पालन करें। प्रमुख सचिव स्वास्थ ने कहा कि प्रत्येक जिले में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी की अध्यक्षता में समिति का गठन किया गया है। जिसमें डाॅक्टर्स, आईएमए, विश्व स्वास्थ्य संगठन, यूनिसेफ के प्रतिनिधि हैं। जिले में क्वालिटी कंसल्टेंट होते हैं, जो कि इंफेक्शन प्रिवेंशन का भी काम करते हैं, वह भी इस समिति के सदस्य होंगे। उन्होंने यहां भी कहा कि सभी जनपदों में समितियां गठित कर ली गई हैं। मंडलीय मुख्यालय के जनपद, कम से कम 10 अस्पतालों व अन्य जनपदों में 5 अस्पतालों की सूची बनाकर उनके एक-एक नोडल अधिकारी को कल ‘इंफेक्शन प्रिवेंशन प्रोटोकाॅल’ का प्रशिक्षण दिया जायेगा। उसके बाद नोडल अधिकारी अपने हाॅस्पिटल के अन्य स्टाफ को प्रशिक्षित करेंगे।

बेड्स की संख्या बढ़ने पर दिया ज़ोर:
प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने निर्देश दिए हैं कि आइसोलेशन के लिए जो एल-1 के स्तर पर उपलब्ध बेड्स हैं, उनकी संख्या और बढ़ाई जाए। इस क्रम में अस्पतालों का व अस्थाई अस्पतालों का चिन्हांकन हो गया है। इसके साथ ही प्रमुख सचिव स्वास्थ ने कहा हमे उम्मीद है की हम एल-1 स्तर के अस्पतालों में 8 हजार बेड्स की और वृद्धि कर लेंगे।

 

यह भी पढ़े: http://कोटा से लौटे छात्रों के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की वीडियो कॉन्फ्रेंस

Leave a Reply

Your email address will not be published.