साक्षी मिश्रा ने अखिलेश यादव से माँगा मिलने का वक्त: समाजवादी पार्टी कर सकती है ज्वाइन

साक्षी मिश्रा

साक्षी मिश्रा ने कहा कि समाजवादी पार्टी की कार्यशैली और अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री काल में जो विकास की लहर को देखने को मिली उसके कारण वो बहुत प्रभावित हुई है और इसी कारण वह समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर रही है।

लखनऊ: बरेली से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा जल्द ही समाजवादी पार्टी की सदस्यता लेना चाहती हैं। उन्होंने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिलने के लिए वक्त मांगा है। साक्षी मिश्रा ने बताया कि समाजवादी पार्टी की कार्यशैली और अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री काल में जो विकास की लहर को देखने को मिली उसके कारण वो बहुत प्रभावित हुई है और इसी कारण वह समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर रही है।

साक्षी ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने जातिवाद को बढ़ावा ना देते हुए एक विकास की लहर चलाई और युवाओं को लिए अनेक प्रकार के रोजगार उत्त्पन किये। साक्षी ने आगे कहा, कि इन सब से प्रभावित होकर ही मैं समाजवादी पार्टी ज्वाइन करना चाहती हैं, इसके लिए मैंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिलने का समय मांगा है। जैसे ही वह मुझे मिलने का वक्त देते है तो मैं लखनऊ जाकर सपा की सदस्यता लूंगी। साक्षी ने अभी 9 अगस्त को एक बेटे को जन्म दिया है।

https://www.newstrendz.co.in/national-international/punjab-corona-effect-curfew-time-7pm-to-5am/

बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी पिछले साल 3 जुलाई को अपने घर से अचानक कही चली गई थीं। इसके बाद उन्होंने अपने परिवारवालों की मर्जी के खिलाफ जा कर अजितेश से लव मैरिज कर ली थी। शादी के एक हफ्ते बाद 10 जुलाई को दोनों ने सोशल मीडिया पर वीडियो डाल कर अपने परिजनों से अपनी जान को खतरा बताया था। इसके अगले दिन 11 जुलाई को साक्षी ने एक और वीडियो जारी कर के अपने पिता राजेश मिश्रा, भाई विक्की भरतौल और पिता के करीबी राजीव राणा से अपनी व अपने पति की जान को खतरा बताया था। ये दोनों वीडियो उस समय बहुत वायरल हुए थे, जिसके बाद इस मामले ने काफी तूल पकड़ा था।

अब साक्षी मिश्रा ने कहा कि मैं शादी के बाद बहुत खुश हूं, क्योंकि मेरे पति अजितेश मुझे बहुत सपोर्ट करते हैं। साक्षी के अनुसार, अजितेश और उनका पूरा परिवार मेरा खयाल बहू की तरह नहीं, बल्कि एक बेटी की तरह रखते है। लेकिन, अपने परिवार की याद तो आती है, क्योंकि जन्म से लेकर अपनी मर्जी से शादी से पहले तक का साथ कम नहीं होता। इसीलिए आज मैं भाई विक्की को सबसे ज्यादा याद करती हूं।

यह भी पढ़े: चीन नहीं माना तो भारत के पास सैन्य विकल्प भी मौजूद: CDS बिपिन रावत