Uttar Pradesh: प्रदेश के 51 हजार प्रवासी मजदूर वापस आए: अपर मुख्य सचिव गृह

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar pradesh) के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने प्रेसवार्ता करते हुए बताया कि अलग-अलग राज्यों में फंसे 51 हजार से ज्यादा मजदूरों को प्रदेश वापस लाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि गुरुवार को 43 ट्रेनें प्रवासी मजदूरों (Labours) को लेकर प्रदेश में आ चुकी हैं। इन ट्रेनों की मदद से अलग-अलग राज्यों से 51371 श्रमिक प्रदेश पहुंचे।

 

अवनीश अवस्थी ने यह भी बताया कि गुरुवार को 12 बजे से पहले 13 और ट्रेनें आ जाएंगी लगभग 15500-15600 मजदूर और आएंगे। लगभग 43 ट्रेनों की और अनुमति हमने दे दी है। उन्होंने कहा कि गुजरात से 32599, महाराष्ट्र से 7000 से अधिक, पंजाब से 4700, तेलंगाना से करीब 2400, कर्नाटक से 1200 लोग ट्रेनों से वापिस आ चुके हैं।

अवस्थी ने कहा कि हरियाणा से 11200, मध्य प्रदेश से 6000, राजस्थान से 10000 से अधिक, उत्तराखंड से 1500, कोटा से 12000 से अधिक छात्र, प्रयागराज से 15000 छात्र अपने घरों को जा चुके हैं। इस तरह रोडवेज बसों के पहले चरण से लगभग 55700 लोग आ चुके हैं।

प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अमित मोहन प्रसाद ने बताया की हमारे प्रदेश में अन्य राज्यों से बहुत बड़ी संख्या में प्रवासी आ रहे हैं, जिनकी स्क्रीनिंग के बाद वे विभिन्न गांवों या शहरों में जाएंगे जहां उनके लिए 21 दिन के होम क्वारंटाइन की व्यवस्था की गई है।
इसके साथ ही संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार साबुन व पानी से हाथ धोना न भूलें, सोशल डिस्टेंसिंग जरूर मेनटेन करें, कम से कम दो गज की दूरी अवश्य बनाकर रखें।

प्रमुख सचिव ने कहा कि प्रत्येक ग्राम के लिए एक ‘ग्राम निगरानी समिति’ बनाई गई है व मोहल्ले में ‘मोहल्ला निगरानी समिति’ बनाई गई है। इस निगरानी समिति के ऊपर यह दारोमदार है कि वे इंफेक्शन को फैलने से रोकने में मदद करें। ये समितियां बाहर से आ रहे लोगों को होम क्वारंटाइन के लिए प्रेरित करें, उनकी निगरानी करें, अगर लोग होम क्वारंटाइन को नहीं फाॅलो कर रहे हैं तो तत्काल जिला प्रशासन को सूचित करें।

 

यह भी पड़े: http://Andhra Pradesh: ज़हरीली गैस लीक होने से 1000 से ज़्यादा बीमार, 11 की मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published.